Ultimate magazine theme for WordPress.

रिलायंस जियो में सिल्वर लेक ने किया और 4546 करोड़ का निवेश, हिस्सेदारी बढ़कर हुई 2.08%

0

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) को जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश (इंवेस्टमेंट) के लिए विदेशी निवेशकों का तांता लगा हुआ है। शुक्रवार (5 जून) को कंपनी को छह सप्ताह में सातवीं बड़ी निवेशक अमेरिका की कंपनी सिल्वर लेक मिली, जिसने 0.93% इक्विटी के लिए जियो प्लेटफॉर्म्स में 4,546.80 करोड़ रुपए के निवेश का ऐलान किया है।

यह सिल्वर लेक का जियो प्लेटफॉर्म्स में दूसरा निवेश है। इससे पहले भी सिल्वर लेक पार्टनर्स ने 4 मई को जियो प्लेटफॉर्म्स में 1.15% इक्विटी के लिए 5,655.75 करोड़ का इंवेस्टमेंट किया था। इस तरह सिल्वर लेक का जियो में अब कुल इंवेस्टमेंट अब बढ़कर 10,202.55 करोड़ रुपए का हो गया है। साथ ही उसकी जियो प्लेटफॉर्म्स में इक्विटी भी बढ़कर 2.08% हो गई है।

अब मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो मार्ट की पहुंच 200 बड़े और छोटे शहरों तक

शुक्रवार को ही अबू धाबी की मुबाडला इंवेस्टमेंट कंपनी ने छठे निवेशक के तौर पर जियो में 1.85 प्रतिशत इक्विटी के लिए 9,093.60 करोड़ रु निवेश की घोषणा की है। मुबाडला ने जियो प्लेटफॉर्म्स की इक्विटी वैल्यू 4.91 लाख करोड़ रुपए आंकी है। जियो प्लेटफॉर्म्स में निवेश का जो सिलसिला शुरू हुआ था वह थम नहीं रहा है। अब तक सात बड़े निवेशकों का जियो प्लेटफॉर्म्स में कुल 19.90% इक्विटी के लिए कुल 92,202.15 करोड़ रु का निवेश हो चुका है।

सबसे पहले फेसबुक, उसके बाद विश्व के अग्रणी निवेशक सिल्वर लेक पार्टनर्स, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, जनरल अटलांटिक, केकेआर एवं अब मुबाडला इंवेस्टमेंट और अब सिल्वर लेक। जियो प्लेटफॉर्म्स, रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई है। अगली पीढ़ी की टेक्नॉलोजी कंपनी देश को एक डिजिटल समाज के रुप में विकसित बनाने के लक्ष्य से जुटी हुई है। इसके लिए जियो के प्रमुख डिजिटल एप, डिजिटल ईकोसिस्टम और देश के नंबर एक हाई-स्पीड कनेक्टिविटी प्लेटफ़ॉर्म को एक-साथ लाने का काम कर रही है। रिलायंस जियो इंफ़ोकॉम लिमिटेड, जिसके 38 करोड़ 80 लाख ग्राहक हैं, जियो प्लेटफ़ॉर्म्स लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई बनी रहेगी।

जियो प्लैटफॉर्म्स में फेसबुक का ‘जादू’ खरीद रहा है हिस्सेदारी

इस मौके पर रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक, मुकेश अंबानी ने कहा, “सिल्वर लेक और इसके सह-निवेशक मूल्यवान साझेदार हैं। मैं इस बात पर जोर देना चाहूंगा कि कोविड-19 महामारी के दौरान पांच सप्ताह के भीतर जियो प्लेटफार्मों में सिल्वर लेक का अतिरिक्त निवेश, भारतीय अर्थव्यवस्था में उनके विश्वास का प्रतीक है।” वहीं, निवेश पर टिप्पणी करते हुए, सिल्वर लेक के सह-सीईओ और प्रबंध साझेदार, एगॉन डरबन ने कहा, “हम अपने एक्सपोजर को बढ़ाने और अपने सह-निवेशकों को भी अपने साथ लाने पर उत्साहित हैं। उपभोक्ता और छोटे व्यवसायों के लिए उच्च-गुणवत्ता और सस्ती डिजिटल सेवाओं प्रदान करने के जियो के मिशन का हम समर्थन करते हैं। जियो में और अधिक निवेश जियो के बिजनेस मॉडल की मान्यता है।”

Leave A Reply

Your email address will not be published.